Blog

मंडीदीप में निर्माणाधीन धर्मशाला के लिए आर्थिक सहयोग करने हेतु अनुरोध

मंडीदीप में निर्माणाधीन धर्मशाला के लिए आर्थिक सहयोग करने हेतु अनुरोध
———————-
समाज के सहयोग से मंडीदीप में निर्मित हुआ 65 फीट ऊंचा श्री राम जानकी मंदिर
——————
भोपाल। मंदिर समिति द्वारा मंदिर के आसपास धर्मशाला का निर्माण किया जा रहा है जिसमें प्रतियोगी परीक्षा देने हेतु आने वाले समाज सदस्यों और समाज के श्रद्धालुओं के रुकने हेतु धर्मशाला का निर्माण किया जा रहा है।

समाज की शक्ति क्या होती है और समाज के सहयोग से कैसा सृजनात्मक काम होता है इसका जीता जागता उदाहरण है श्री राम जानकी मंदिर मंडीदीप।

“सुखवाड़ा” द्वारा जारी अपील पर समाज सदस्यों द्वारा प्रदत्त आर्थिक सहयोग से लगभग 2500 स्केयर फीट पर 65 फीट ऊंचा श्री राम जानकी मंदिर मंडीदीप में निर्मित किया गया है। बाद में जारी अपील पर समाज सदस्यों द्वारा प्रदत आर्थिक सहयोग से लंदन म्यूजियम में रखी गई राजा भोज वाग्देवी की प्रतिमा की तर्ज पर निर्मित राजा भोज और वाग्देवी की मूर्ति स्थापित की गई है।

अब मंदिर समिति द्वारा मंदिर के आसपास धर्मशाला का निर्माण किया जा रहा है जिसमें प्रतियोगी परीक्षा देने हेतु आने वाले समाज सदस्यों और समाज के श्रद्धालुओं के रुकने हेतु धर्मशाला का निर्माण किया जा रहा है।

इस निर्माण कार्य के लिए आप सभी सुधिजनों से यथायोग्य सहायता करने का अनुरोध है ताकि यह कार्य भी आपके सहयोग से पूरा किया जा सके और इसका पुण्य लाभ भी आपको मिल सके।
आपकी सुविधा के लिए सहयोग राशि भेजने हेतु विस्तृत जानकारी निम्नानुसार है-

खाता धारी सदस्य का नाम-घनश्याम पवार
खाता क्रमांक- 10687135793
आईएफएससी कोड-
SBIN0006190
बैंक का नाम-स्टेट बैंक ऑफ इंडिया
शाखा का नाम-मंडीदीप
मोबाइल नंबर-9009408298,7974582207

आशा है ,आप अपना स्नेह सहयोग और विश्वास “सुखवाड़ा” के प्रति पूर्ववत बनाए रखेंगे।

सहयोग की अपेक्षा में-
आपका “सुखवाड़ा” ई- दैनिक और मासिक।

Screenshot 2019-02-10 at 10.54.21 PM

z-min

श्रीराम-जानकी मंदिर क्षत्रिय पवार समाज 55 सीढ़ी मंडीदीप जिला रायसेन में बसंत पंचमी के पावन पर्व पर सुन्दरकाॅड एवं श्रीराम दरबार के साथ साथ विष्णु जी के विभिन्न अवतारो एवं माॅ वाग्देवीजी एवं उनके वरद पुत्र पवार परमार के वंशज शिरोमणि महाधिराज श्रीमंत राजा भोज जी की पूजा अर्चना कर सम्पन्न हूआ। कार्यक्रम में डाॅ0हेमलता गणपतिजी डहारे, अध्यक्ष माॅ वाग्देवी वाहिणी समिति क्षत्रिय पवार समाज भोपाल, श्रीमती सुनीता बलराम डाहरे, अध्यक्ष माॅ वाग्देवी वाहिणी मंडीदीप , श्रीकृष्णा कडवेकर,अध्यक्ष पवार वैभव संगठन,मंडीदीप श्री कमल चौधरी, सचिव पवार वैभव संगठन,मंडीदीप, श्री बलराम डाहरे अध्यक्ष, श्री राम-जानकी मंदिर क्षत्रिय पवार समाज मंडीदीप एवं जिलाध्यक्ष, राष्ट्रीय राजाभोज स्मारक समिति,जिला रायसेन श्री रमेश पवार (सुदामा जी बारंगे ) सचिव मंदिर समिति, श्री घनश्याम कालभोर, कोषाध्यक्ष, मंदिर समिति मंडीदीप, श्री गोहटेजी, कैप्टन सूरेशजी परमारजी, श्री राजेश जी बारंगे आदि उपस्थित रहे।

क्षत्रिय पवार समाज के सभी विवाह योग्य युवक युवतियों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी :Register Here

zz-min

pawar samaj

श्री राम – जानकी मंदिर क्षत्रिय पवार समाज 55 सीढ़ी मंडीदीप में माॅ वाग्देवीजी (सरस्वतीजी) के वरदपुत्र महामहिमा श्रीमंत राजाभोजजी की जयंती (बसंत पंचमी )पर्व  दिनाॅक 10-2-2019 दिन रविवार को समय प्रात: 9:00 बजे  श्री सुन्दरकांड पाठन के साथ प्रारंभ कर पूजा अर्चना के साथ मनाई जावेगी । जिसमें समस्त भोजवंशी भाई-बहिने निमंत्रित है ।       निवेदक:-श्री राम-जानकी मंदिर, समिति (माँ वाग्देवी वाहिनी समिति एवं  राष्टीय राजा भोज स्मारक  समिति )मंडीदीप

11

क्षत्रिय पवार समाज के सभी विवाह योग्य युवक युवतियों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी :Register Here

22

www.bhojvyapaar.com-min

एक कदम एक प्रयास समृद्ध बनाये समाज : पवार समाज के समस्त व्यापारी बंधुओ के लिए एक हमारे पूज्य राजा भोज के नाम के साथ समाज के लिए सेंट्रलाइज्ड ऑनलाइन सिस्टम – बिज़नेस डायरेक्टरी (www.bhojvyapaar.com) का निर्माण किया गया है जिससे समाज के समस्त व्यापारी गण अपने बिज़नेस की समस्त जानकारी ऑनलाइन कर सकते है और सभी सामाजिक व्यक्ति इसका लाभ ले सकते है !

समृद्धि के पथ पर बढ़ते समाज में हमारे व्यापारी बंधुओ का विकास अन्य समाजो की तरह तेजी से नहीं हो पा रहा है न ही हम पवार समाज व्यापार के क्षेत्र में अपनी सुदृढ़ पहचान स्थापित कर पाए है.. कही न कही हमारी समाज का व्यापारी वर्ग आकार में विशालकाय होने के बावजूद भी पिछड़ा हुआ है और जिसे हम सब को मिलकर आगे बढ़ाना होगा उन्नत बनाना होगा.. क्योकि हम सभी के परिवारों से कोई न कोई तो अवश्य ही व्यापार से जुड़ा हुआ है .. तो हम सब को आगे आना होगा एक दूसरे का सहयोग करना होगा और समाज के व्याप्परी वर्ग को समृद्ध और विकासशील बनाना होगा !!

www.bhojvyapaar.com एक ऑनलाइन पोर्टल है जहा पवार समाज के विभिन्न क्षेत्रो में निवासरत व्यवसायी बंधू चाहे शहरी क्षेत्र हो या ग्रामीण क्षेत्र हो सभी अपनी व्यवसाय सम्बन्धी जानकारी चाहे वो कोई सेवा / वस्तु (product / service) हो क्षेत्रवार ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा सकते है और अपने बिज़नेस को ऑनलाइन अस्तित्व में ला सकते है.. जिससे उनके बिज़नेस को कोई भी व्यक्ति कही से भी जानकारी देखकर उनसे संपर्क कर सकता है और दी जाने सर्विस का उपयोग कर सकता है इस तरह व्यापारी वर्ग को अपने व्यापार को सुदृढ़ बनाने में सकारत्मक सहयोग और समृद्धि मिलेगी !

www.bhojvyapaar.com इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के उपरांत आपको सम्बंधित व्यक्ति जो आपसे सर्विस लेना चाहे आपकी सर्विस और क्षेत्र के अनुसार ऑनलाइन अपने मोबाइल / लैपटॉप / कंप्यूटर के माध्यम से आसानी से किसी भी समय किसी भी क्षेत्र से ढूंढ सकता है और आपके दिए गए सम्पर्क जानकारी : मोबाइल/ फ़ोन / ईमेल/ व्हाट्सप्प के माध्यम से संपर्क कर सकता है ! इस प्रकार आपकी जानकारी और आपके बिज़नेस का दायरा किसी एक क्षेत्र में सिमित न रहकर बढ़ता जायेगा !

सभी सामाजिक व्यक्ति अपने समाज के व्यापारी वर्ग की कैसे सहायता कर सकते है : एक सामाजिक व्यक्ति होने के दायित्व के साथ हम सिर्फ इतना करे की जब भी हमें किसी भी प्रकार की service / product लेना हो तो एक बार जरूर देखे की अपने क्षेत्र में हमारा कोई व्यक्ति यह service / product का बिज़नेस कर रहा हो तो उससे जरूर संपर्क करे .. इसके लिए आपको सिर्फ अपने मोबाइल जो आमतौर हम सभी उपयोग करते है www .bhojvyapaar .com पर जाये ..

1 . अपनी सर्विस चुने

2 . अपने क्षेत्र चुने

3 . सर्च करे

और सम्बंधित व्यक्ति से service / product की जानकरी प्राप्त करले !!

समस्या : समाज के व्याप्परी वर्ग के लिए ऑनलाइन पोर्टल क्यों ???.. क्योंकि हमे अपने आसपास के अपने समाज के लोगो की ही पूरी सही जानकारी नहीं मिल पाती की कोईयन सा व्यक्ति किस प्रकार का व्यवसाय करता है .. या पता हो भी तो उनसे किसी कारणवश संपर्क नहीं हो पता है .. इस स्थिति में हम सभी न चाहते हुए भी किसी अनजान व्यक्ति से लेनदेन करते है और अपने किसी समाजिक व्यापारी भाई का नुक्सान करा देते है .. इस ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से सभी बिज़नेस करने वाले व्यक्ति की समस्त जानकारी क्षेत्रवार होगी जिससे सभी को लाभ होगा और आपसी सामजस्य समाज में लेनदेन और सहयोग की भावना को बल मिलगा !

हमारा उद्देश्य : समाज के विभिन्न क्षेत्रो के समाजिक व्यक्ति और समाज के व्यवसायी बंधुओ के आपसी लेनदेन बढे हम सब मिलकर प्रयास करे की समाज के बीच service / product लेने का प्रयास करे जिससे हमारे व्यापारी वर्ग भी सुदृढ़ हो उनका परिवार भी समृद्ध हो और समाज के बीच service / product लेने सामाजिक सरोकार भी बढ़े.. सबका विकास होगा तभी समृद्ध समाज होगा !

हमारे वर्तमान कार्यक्षेत्र और सेवाएं :

Areas : BHOPAL, MANDIDEEP,BUDHNI,HOSANGABAD,SARNI,BETUL,MULTAI,CHHINDWARA,NAGPUR,BALAGHAT,JABALPUR,INDORE etc..!

Services/product : किसी भी प्रकार की service / product / business को ऑनलाइन रजिस्टर्ड किया जा जायेगा ! (ex : Photographer, DJ, Tent, Catering, Repair Shop, Car service, Life insurance, Motor Insurance, Builders, Constructors, Tutor, School, College, Doctor- Clinik, Hospital, Shop, Carpenter, Electrician, Plumber, Cleaner, Driver, Helper, Mechanics, Medical shop, workers, Beauty Parlors, yoga, Brokers, Finance, Decorators, Lighting, Printing , sales and support etc..)

bhoj-vyapaar-min
Register and become BHOJ Vyapaari 😊

Please contact for Registration : Mahendra Digarse -8880842536 & Chandan Pawar – 8880842536

🙏Jai raja BHOJ🙏

mandideep-picnic

सफलता पूर्ण मनाया वैभव संगठन द्वारा – सालाना स्नेह पर्व 2018 साथ ही क्षत्रिय पवार समाज के सभी व्यापारी बंधुओ के लिए एक ऑनलाइन प्लेटफार्म भी शुरू हुआ – www.bhojvyapaar.com 

mandideep-sammelan-min

प्रतिवर्ष अनुसार इस वर्ष भी क्षत्रिय पवार वैभव संगठन का सालाना स्नेह पर्व दिनांक 25-12-2018 दिन मंगलवार को प्रातः 7:30 बजे से श्रीराम जानकी मंदिर 55 सीढ़ी मंडीदीप में श्रीसुन्दर काॅड से प्रारंभ किया जावेगा ।

आमंत्रित अतिथियों की उपस्थिति मे10:00 मंदिर में आरतीकर स्नेह पर्वस्थल पर माॅ वाग्देवीजी एवं उनके वरदपुत्र एवं क्षत्रिय पवार परमार समाज के कुलभूषण श्रीमंत राजाभोजजी के समक्ष दीपपर्ज्जवलीत कर पूजन वंदन कर अतिथिसत्कार से कार्यक्रम प्रारंभ होगा ।

संक्षिप्त कार्यक्रम में नन्हे मुन्ने बच्चों के कार्यक्रम के साथ आमंत्रित अतिथियों के उद्बोधन व प्रोत्साहन पुरुस्कारो का वितरण आदि शामिल हैं।समय 2:30 से स्नेह भोजन प्रारंभ किया जावेगा ।

अतः अतिथिगण एवं अन्य सामाजिक भाई बहनों से अनुरोध हैं कि निर्धारित समय पर उपस्थित रहकर धार्मिक एवं अपने सामाजिक कार्यक्रम का आनन्द उठाये। “बलराम डाहरे संरक्षक क्षत्रिय पवार वैभव संगठन मंडीदीप”

mandideep_post

पुनर्विवाह

पुनर्विवाह : पवार समाज के ऐसे परिवारजन या व्यक्ति (युवक -युवतिया) जिनके जीवनसाथी की या तो मृत्यु हो चुकी है या फिर किसी और वजह से अपने जीवनसाथी से भिन्न एकल जीवन यापन करने पर विवश है…और अपने दायित्वों का निर्वाह हेतु जीवन में नयी शुरुवात करना चाहते है.. ऐसे समाजिक व्यक्तियों के जीवन सुधार हेतु एक सकारत्मक सामाजिक पहल  “पुनर्विवाह ” – पवार समाज के विभिन्न क्षेत्रो में निवासरत परिवारों में ऐसे भाई बहिन जो अपने जीवन की नयी शुरुवात करना चाहते है उन्हें पवारमट्रीमोनिअल एक सामूहिक मंच प्रदान करने का प्रयास करता है जिससे पुर्नविवाह समबन्धित सदस्य अपनी जानकारी हमें दे सकते है और हम ऐसे सभी सदस्यों जो विभिन्न क्षेत्रो से होंगे उन्हें अपना जीवनसाथी तलाशने में सहायक भूमिका अदा कर पुर्नविवाह समबन्धित सदस्यों की जानकारी साझा की जाएगी!! जिससे “पुर्नविवाह” में सहायता हो और किसी व्यक्ति के जीवन को नयी शुरुवात एवं समाज को  एक नया खुशहाल परिवार मिल सके…!!
पुनर्विवाह पर विशेष ध्यान – समाज को एक व्यक्ति के जीवन को सुधारने में पूर्णतः समर्थन और सहयोग करना चाहिए।

रजिस्ट्रेशन व् प्रक्रिया – अधिक जानकारी हेतु संपर्क करे : (महेंद्र डिगरसे :8880842536 / चन्दन पवार:8880686073 )

एक तरफ अपना समाज तरक्की कर रहा है एक नयी उचाईयों तक पहुंच रहा है अपने “राजा भोज के वंशज” होने पे बड़ा फक्र होता है लेकिन दूसरी और समाज के कुछ कड़वे सच भी है जिन्हे हम देखना नहीं चाहते | उनसे आँखें मिलाता हूँ तो परेशान हो जाता हूँ | वैसे हमारा सीधे लेना देना नहीं है  हम ही इस बारे में क्यों सोचें हमारी ज़िन्दगी तो ठीक ठाक चल रही है हमें क्या फर्क पड़ता है – लेकिन फर्क पड़ता है | हम भी तो इसी समाज का एक हिस्सा हूँ | हर बात के हमसे आपसे होकर ही तो गुजरती है … आज अगर राजा भोज ज़िंदा होते तो हम उन्हें क्या जवाब देते |||
समाज में विधवाओं की दशा आधुनिक काल में भी बड़ी शोचनीय है । अतः विधवा पुनर्विवाह की समस्या किसी न किसी रूप में अब भी उपस्थित है अपने समाज में जिसे मिलकर दूर करने का मिलकर प्रयास करना है |

#PawarMatrimonialhelps you to find right partner for #SecondMarriage 1

पुनर्विवाह इच्छुक समाज का व्यक्ति इस लिंक पर जा के अपना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करे : http://www.pawarmatrimonial.com/register/

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के उपरांत आपको आपकी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, लॉगिन अवं प्रोफाइल डिटेल्स रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर हमारे द्वारा भेज दी जाएगी |

आपको पावरमैट्रीमोनिअल के व्हाट्सअप्पग्रूप में जोड़ लिया जाएगा जिसमे वैवाहिक जानकारी शेयर की जाती है |

navratra

पवार रामजानकी मंदिर 55सीढ़ी मंडीदीप में  चैत्र  नवरात्रि पर्व  18:3:2018 से 25:3:2018 में  बंधुओं  को  निमंत्रण :- संक्षिप्त  कार्य क्रम -: प्रतिदिन  प्रा त: 8-00 से पूजा अर्चना ।

दिनांक 24:3:2018 शनिवार  प्रा त: 8-30 से अखंड रामायण पाठक  प्रारंभ। दिनांक 25:3:2018 को प्रात: 10-00 माँ वागदेवीजी एवं  ऋमंत राजाभोजजी की प्रतिमाओ की स्थापना। 12-00 बजे प्रतिमाँ का लोकार्पण ,रामजन्मोत्सव एवं भोजनप्रसादी |  

 – बलराम डाहरे मंडीदीप

basant-panchmi1

बसंत पंचमी  के पावन पर्व पर पवार श्रीराम जानकी मंदिर 55 सीढी मंडीदीप मे मां वागदेवीजी की प्राण प्रतिष्ठा हेतु  सिंहासन निर्माण कार्य के छायाचित्र 22-2-2018

-बलराम डाहरे

raja-bhoj

22 जन 2018 राजा भोज जयंती पर विशेष –

वे दूसरों की सहायता करते तो लगता मानो लक्ष्मी ही धन की वर्षा कर रही हो,जब वे लिखते तो लगता मानो सरस्वती ही उनकी कलम में उतर आई हों और जब वे युद्ध के मैदान में होते तो लगता मानो दुर्गा ही उनकी तलवार में उतर आई हों।


राजा भोज के चित्र को ध्यान से देखें। माँ वाग्देवी की आराधना में वे लीन हैं। उनके बगल में तलवार लटकी हुई है। कद काठी मजबूत है। शरीर बलिष्ठ है। उनका पूरा व्यक्तित्व ही शिक्षाप्रद है। माँ वाग्देवी की पूजा करना इस बात का प्रतीक है कि हमारी बहन बेटी बहू माँ वाग्देवी स्वरूपा हैं। उनके मान सम्मान की रक्षा करना ही उनकी सच्ची आराधना है। हमारे समाज में पिता बेटी के और भाई बहन के चरण स्पर्श करता है। हमारे घर में लक्ष्मी स्वरूपा लाई जाने वाली बहू के भी ससुर चरण स्पर्श करते हैं। माँ बहन बेटी बहू सरस्वती लक्ष्मी पार्वती स्वरूपा होती हैं। भोज का व्यक्तित्व हमें यही सीख देता है कि जीवन में नारी का सम्मान करने से ही व्यक्ति का व्यक्तित्व निखरता है।


राजा भोज के हाथ में जो तलवार है वह कर्म का प्रतीक है।तलवार तत्परता और स्फूर्ति का प्रतीक मानी जाती है। कर्म करके ही जीवन को सार्थकता प्रदान की जा सकती है। 17 बार सोमनाथ को लूटने वाला गजनवी जब बेशर्मी की सारे हदें पार कर जाता है तब राजा भोज को अपनी तलवार निकालना पड़ता है। बहन बेटियों की आबरू की रक्षा के लिए राजा भोज को तलवार उठानी पड़ती है। मुँह ताकना और हाथ पे हाथ धरे बैठना क्षत्रियों को शोभा नहीं देता। भोज यही सीख देते है कि जरुरत पड़ने पर प्राणों की बाजी लगाने के लिए भी तैयार रहना चाहिए।


राजा भोज कर्म प्रधान विश्व करि राखा के प्रबल समर्थक और सटीक उदाहरण थे। उन्होंने 55 वर्ष की आयु में 84 किताबें और 120 काव्य लिखकर तलवार के साथ कलम को भी साध रखा था। राजा होने के कारण उनपर लक्ष्मी की कृपा तो थी ही सरस्वती और दुर्गा की भी उनपर असीम कृपा थी। वे दूसरों की सहायता करते तो लगता मानो लक्ष्मी ही धन की वर्षा कर रही हो,जब वे लिखते तो लगता मानो सरस्वती ही उनकी कलम में उतर आई हों और जब वे युद्ध के मैदान में होते तो लगता मानो दुर्गा ही उनकी तलवार में उतर आई हों।


उनका स्वस्थ और सुन्दर शरीर यही सन्देश देता है कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन पाया जाता है। मन को मंदिर की संज्ञा दी गई है। स्वस्थ मन होने पर ही स्वस्थ निर्णय लिए जा सकते हैं। जीवन में उन्होंने प्रतिभाओं को सम्मान दिया और अपने दरबार में उनको सदैव ही उच्च स्थान प्रदान किया। उनके दरबार में सदैव उच्च कोटि के विद्वानों की परिचर्चाएं आयोजित हुआ करती थीं। दक्षिण से 400 विद्वानों को अपने दरबार में स्थान देकर उन्होंने यही बताने की कोशिश की कि प्रतिभाओं के सम्मान और उनके सानिध्य में ही जीवन का सच्चा विकास संभव है।

राजा भोज द्वारा 1000 वर्ष पूर्व विज्ञान, तकनीकी,यांत्रिकी, ज्योतिष आदि का इतना विकास कर लिया गया था कि आज का जीवन भी उनके जीवनकाल के समय से काफी पीछे का प्रतीत होता है। उनका विकसित जीवन हमें जीवन में नवीन ज्ञान तकनीकी को यथोचित स्थान देने की सीख देता है।समय के साथ चलने के लिए हमें लीक से हटकर अपने जीवन में आवश्यक सुधार लाने और अपनाने की सीख देता है।

हमें चाहिए कि रूढ़िवादिता, अन्धविश्वास,कुरीति,मृत्युभोज,दहेज़,बलि प्रथा,चुट्टी आदि आदिम काल से चली आ रही कुरीतियों और परम्पराओं को त्यागकर नवीन को धारण कर अपने स्वस्थ सुखी और सुविकसित जीवन की नींव रखें। राजा भोज जयंती मनाना तभी सार्थक होगा जब हम आडम्बर से बचकर उनके आदर्शों को अपने जीवन में उतारने का हर संभव प्रयास करेंगें। केवल राजा भोज के चित्र पर माला और पुष्प चढ़ाकर,जय राजा भोज के नारे लगाकर,फेसबुक पर जय राजा भोज लिखकर या एक दिन आयोजन में भीड़ का हिस्सा बनकर भोज जयंती मनाना महज औपचारिकता होगी।

-वल्लभ डोंगरे,सुखवाड़ा, सतपुड़ा संस्कृति संस्थान भोपाल।

raja

WE ARE AN ENTREPRENEUR OF "I-DIGIT SOFTWARE" OUR VISION IS TO HELP PAWAR MEMBERS TO FIND THEIR LIFE PARTNER...